रोजर फेडरर लेंगे संन्यास, 23 सितंबर से लंदन में आयोजित होने वाला लेवर कप उनका आखिरी टूर्नामेंट होगा।

दुनिया के सबसे महान टेनिस खिलाड़ियों में अपना नाम शुमार करने वाले स्वीटजरलैंड के रोजर फेडरर ने हाल ही में संन्यास का ऐलान किया है। उन्होंने अपने संन्यास की जानकारी देते हुए बताया कि 23 सितंबर से लंदन में आयोजित होने वाला लेवर कप उनका आखिरी टूर्नामेंट होगा। 24 साल तक चले टेनिस करियर में उन्होंने अब तक 20 ग्रैंड स्लैम अपने नाम किए हैं जिसमें 8 विंबलडन, 6 ऑस्ट्रेलियन ओपन, 5 अमेरिकन ओपन और 1 फ्रेंच ओपन शामिल है। वह इस सूची में राफेल नडाल और नोवाक जोकोविच के बाद तीसरे स्थान पर है। उन्होंने अपने टेनिस करियर में कई ऐसे रिकॉर्ड अपने नाम करें है जो कि शायद मौजूदा खिलाड़ियों से नहीं टूट सके। चलिए जानते हैं ऐसे ही कुछ मौजूदा रिकॉर्ड्स के बारे में

ग्रास कोर्ट में खेले जाने वाले विंबलडन को रोजर फेडरर ने 8 बार अपने नाम किया है और वह इसे जीतने वाले सबसे सफल पुरुष खिलाड़ी हैं। उन्होंने 2003 से 2006 तक लगातार चार बार इस खिताब पर कब्जा जमाया। 2007 में चोट के चलते वह इस ग्रैंड स्लैम में खेल नहीं सके थे लेकिन 2008 में वापस आकर उन्होंने अपनी बादशाह हद कायम करें। इस दौरान उन्होंने लगातार 65 मुकाबले अपने नाम करें जो कि अभी तक एक विश्व रिकॉर्ड है।

सबसे लंबे समय तक पॉइंट्स टेबल में नंबर 1 पोजीशन पर 373 हफ्तों तक रहने का रिकॉर्ड भले ही नोवाक जोकोविच के नाम है लेकिन लगातार हफ्तों तक नंबर 1 बने रहने का रिकॉर्ड रोजर फेडरर ने अपने नाम किया है। वह 2 फरवरी 2004 से 10 अगस्त 2008 तक 237 हफ्तों तक पुरुषों की रैंकिंग में नंबर 1 रहे थे।

रोजर फेडरर ने 2003 से 2006 तक विंबलडन और 2004 से 2008 तक ऑस्ट्रेलियन ओपन खिताब को जीता था और वह 2 ग्रैंडस्लैम को लगातार 5 सालों तक जीतने वाले दुनिया के एकमात्र खिलाड़ी हैं।

अपने 24 साल के सुनहरे टेनिस करियर में रोजर फेडरर ने सभी चारों ग्रैंडस्लैम के लगातार सेमीफाइनल मुकाबलों में पहुंचने का भी एक बड़ा रिकॉर्ड अपने नाम किया है। वह 2004 के विंबलडन से 2010 के ऑस्ट्रेलियन ओपन तक सभी ग्रैंड स्लैम के सेमीफाइनल मुकाबलों में खेले हैं। इस तरह उन्होंने लगातार चारों ग्रैंडस्लैम के 23 सेमी फाइनल मुकाबलों में हिस्सा लिया है जो कि एक विश्व रिकॉर्ड है उनसे पीछे सर्बिया के नोवाक जोकोविच लगातार 16 सेमीफाइनल मुकाबलों के साथ दूसरे स्थान पर हैं।

Leave a Comment